बेतुका था भारत के खिलाफ साउथ अफ्रीका का टीम सिलेक्शन- गांगुली

0
685
भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सौरभ गांगुली हालिया वनडे सीरीज में साउथ अफ्रीका के अंतिम 11 के सिलेक्शन को लेकर काफी हैरान हैं। 6 वनडे मैचों की सीरीज में भारत ने साउथ अफ्रीका को हर क्षेत्र में मात दी। साउथ अफ्रीका को इस सीरीज में 1-5 से हार का सामना करना पड़ा। साउथ अफ्रीकी धरती पर यह भारत की पहली सीरीज जीत थी। इस जीत के साथ भारत ने इतिहास रच दिया। साउथ अफ्रीका के लिए वनडे सीरीज की शुरुआत ही अच्छी नहीं रही जब उसके स्टार बल्लेबाज एबी डी विलियर्स को पहले 3 वनडे मैचों से बाहर होना पड़ा। इसके बाद पहले ही मैच में उसके कप्तान फाफ डु प्लेसिस उंगली की चोट के कारण सीरीज से बाहर हो गए। यह भी कम था कि क्विंटन डि कॉक जैस दमदार विकेट कीपर बल्लेबाज को भी चोट के चलते वनडे और टी-20 सीरीज से बाहर होना पड़ा। इन सभी चलते साउथ अफ्रीका के बल्लेबाजों के सामने भारतीय गेंदबाजों खासतौर पर स्पिन जोड़ी का सामना करने में खासी पेरशानी आईं। साउथ अफ्रीका के बल्लेबाजों की खराब फॉर्म ने परेशानियों में इजाफा ही किया। डेविड मिलर पहले 3 वनडे में फेल होने के बाद ही किसी तरह की फॉर्म में नहीं लौटे। उन्हें छठे और आखिरी वनडे में टीम में जगह नहीं दी गई। मिलर ने इस सीरीज के पहले तीन मैचों में 7,0 और 25 रन बनाए। इसके बाद के दो मैचों में उन्होंने 39 और 36 रनों की पारियां खेलीं। गांगुली ने लिखा कि मेजबान टीम ने टी-20 सीरीज के लिए अपनी टीम में काफी बदलाव किए हैं लेकिन इनमें से कुछ हैरान करने वाले हैं। गांगुली ने लिखा,जब टीम हारती है तो वह बदलाव करती है लेकिन साउथ अफ्रीका ने जो बदलाव किए हैं उनका कोई औचित्य नजर नहीं आता।’
उन्होंने आगे लिखा,ये बिलकुल ही नए खिलाड़ी होंगे और सीरीज की अहमियत को देखते हुए मुझे कुछ नाम देखकर हैरानी हो रही है। भारत जैसी टीम का दौरा किसी भी मेजबान टीम के लिए अहम होता है लेकिन खिलाड़ियों के चयन देखकर साउथ अफ्रीकी दर्शक भी कुछ खिलाड़ियों को देखकर हैरान होंगे। एक ओर जहां मिलर रविवार से शुरू हो रही टी-20 सीरीज में वापसी करने वाले हैं,वहीं वनडे सीरीज में साउथ अफ्रीका के लिए प्रभावी प्रदर्शन करने वाले तेज गेंदबाज कागिसो रबाडा को आराम दिया गया है। गांगुली ने कहा,आखिरी वनडे में मिलर को मौका न देना हैरान करने वाला था और इतना ही रबाडा को टी-20 सीरीज में मौका न देना। गांगुली ने आगे लिखा कि टी-20 सीरीज में टीम की कमान जेपी ड्यूमिनी के पास है लेकिन उन्हें आखिरी वनडे में नहीं खिलाया गया था वहीं तबरेज शम्सी ने पोर्ट एलिजाबेथ में अच्छी गेंदबाजी की थी लेकिन आखिरी वनडे में उनके स्थान पर इमरान ताहिर को मौका दिया गया।
गांगुली ने लिखा,टेस्ट सीरीज में हार के बाद भारत ने साउथ अफ्रीका के खिलाफ वनडे सीरीज में अपना दबदबा कायम रखा। वह दोनों टीमों के बीच एक बड़ा अंतर रहे। मैं यह देखकर काफी प्रभावित हुआ कि उन्होंने डेड रबर में जी-जान लगाकर बल्लेबाजी की।अब सबका ध्यान रविवार से शुरू हो रही तीन मैचों की टी-20 सीरीज पर है।गांगुली को उम्मीद है कि भारतीय टीम इस सीरीज में भी अपना दबदबा कायम रखेगी। गांगुली ने कहा कि टीम इंडिया साउथ अफ्रीकी दौरे को जीत के साथ खत्म करना चाहेगी।