अब ट्रैन की विंडो सीट पड़ेगी महंगी – वहीं साइड बर्थ का किराया कम करने रखने की भी योजना रेलवे बना रहा है।

0
236

(नई दिल्ली )
रेल में अब सबसे आगे वाली या फिर विंडो सीटों के लिए कुछ अतिरिक्त चार्ज लगाया जा सकता है। वहीं साइड बर्थ का किराया कम करने रखने की भी योजना रेलवे बना रहा है। इसके अलावा पीक सीजन में ज्यादा किराया, जबकि ऑफ सीजन में किराया कुछ कम रखा जा सकता है।फ्लेक्सी फेयर और डाइनैमिक फेयर सिस्टम में बड़ा अंतर यह है कि रेलवे ट्रेन में पहली 10 फीसदी सीटें भरते ही किराए में 10 फीसदी की बढ़ोतरी कर देता है। इस तरह से बेसिक किराए का फायदा ट्रेन के सिर्फ 10 फीसदी पैसेंजरों को ही मिलता है जबकि एविएशन सेक्टर में विमान की पहली 30 फीसदी सीटों पर बेसिक किराया लिया जाता है।
अब विचार हो रहा है कि अगर रेलवे में भी यही व्यवस्था हो और 30 फीसदी सीटें भरने के बाद ही किराए में 10 फीसदी की बढ़ोतरी की जाए तो इस तरह से लगभग 20 फीसदी और पैसेंजरों को कम किराए पर यात्रा का फायदा मिल सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here