जीएसटी की सफलता के लिए घटे कर स्लैब की संख्या : विशेषज्ञों की सलाह

0
197
(नई दिल्ली)
देश में माल एवं सेवाकर (जीएसटी) को लागू हुये छह माह पूरे होने के बाद भी कारोबारी इसके साथ पूरी तरह सहज नहीं हो पाए हैं। ऐसे में विशेषज्ञों ने सरकार और कारोबारियों के बीच तालमेल व सहयोग बढ़ाने और कर स्लैब की संख्या घटाने की सलाह दी है। कारोबारियों का कहना है कि जीएसटी के स्लैब पांच से घटाकर तीन किए जाने चाहिए तथा सेवाओं पर कर की दर बढ़ाने के नकारात्मक प्रभाव पर भी गौर करने की जरूरत है।गौरतलब है कि जीएसटी में सेवाओं पर कर की दर 14 प्रतिशत से बढ़ कर 18 प्रतिशत हो गयी है। विशेषज्ञों के अनुसार सरकार हालांकि, उद्यमियों की जीएसटी से जुड़ी तमाम परेशानियों को दूर करने के लिये हरसंभव कदम उठा रही है, लेकिन जीएसटी के वास्तविक व्यवहार में आने वाली समस्याओं को जल्द से जल्द दूर किए जाने की जरूरत है। आर्थिक क्षेत्र के कुछ अन्य विशेषज्ञों का कहना है कि जीएसटी में शीर्ष दर कम होनी चाहिये और इसमें जो 5 स्लैब हैं उन्हें कम करके तीन किया जाना चाहिये हालांकि, सरकार की ओर से भी समय समय पर इस बारे में संकेत दिए गए हैं कि आने वाले समय में जीएसटी के स्लैब कम किए जाएंगे। जीएसटी में इस समय 0, 5, 12, 18 और 28 प्रतिशत के पांच स्लैब हैं। इसमें 12 और 18 प्रतिशत को मिलाकर एक दर की जा सकती है तथा शीर्ष दर को भी कम किया जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here