तीसरी लहर में कोरोना वायरस से बच्चों को सुरक्षित कैसे रखें।

0
223
तीसरी लहर में कोरोना वायरस से बच्चों सुरक्षित कैसे रखें।
तीसरी लहर में कोरोना वायरस से बच्चों को सुरक्षित कैसे रखें।

कोरोना वायरस की लहर अब खत्म होने का नाम ही नही ले रही है पहले बुजर्गों की चिंता सताती थी

और अब तीसरी लहर के आने से बच्चों की चिंता सताने लगी। देखा जा रहा है

कि दूसरी लहर में भी शिशु से लेकर बड़े बूढ़े सभी इस लहर की चपेट में आ रहे है

लेकिन कहा जा रहा है कि तीसरी लहर में सबसे ज्यादा बच्चों पर इसका असर देखने को मिलेगा

लेकिन khaberaajki टीम आपको आपके बच्चों को तीसरी लहर से कैसे बचायें यह जरूरी टिप्स बताएंगे।

तो आइए जाने वो खास बातें।

दरसअल कोरोना की पहेली लहर आने के बाद जो दूसरी लहर आई है

उसमें से कुछ बच्चों में यह वायरस आने लगा है जिससे कि भारत मे तीसरी लहर एक चिंता का विषय बन गया है

हालांकि हमारे डॉक्टर्स ने इसकी तैयारी शुरू कर दी है,

और कोशिश की जा रही है कि बच्चों पर इसका असर ना बन पाए. तो जाने

ऐसे कुछ तरीक़े जिससे बच्चों के

माता पिता इस वायरस को बच्चों से दूर करने में सफल हो सकें।

बच्चों में सफाई रखने की आदत जरूर डाले.

1) अगर आपने वेक्सिनेशन अभी तक नहीं लगवाया है तो कोशिश करें यह वेक्सिनेशन अगस्त तक दोनों डोज लगवा सकें

जिससे कि बच्चों में इसका असर बिल्कुल भी नहीं दिखे।

इस समय तीन केटेगिरी के लोग वैक्सीनेशन नहीं ले सकते है

जैसे गर्भवती महिला, जो 18 साल से नीचे है और

वो जिनको कोविड से रिकवर होने में तीन महीने नहीं हुए है।

2) यदि आपके बच्चे की एक्टिविटी में कोई भी बदलाव दिख रहा है या कोई संकेत नजर आ रहे है

तो जल्द से जल्द चिकित्सक की सलाह लें अगर डॉक्टर ने कोविड के संकेत दिए है

तो आपको बच्चों के साथ खुद को आइसोलेट होना है जिससे बाकी घर मे ना फैले।

3) कुछ भी आप बच्चों को खाना खिलाती है तो ध्यान रखें खाना खिलाने से पहले अपने हाथ अच्छे से धो लें

और ऐसे कोई चीज़ ना करें जिससे कि बच्चों पर उसका असर आ सकें और

यह भी ध्यान रखें कि चूमने से भी ज्यादा बच्चों और इसका असर आता है

क्योंकि हमारे मुह के स्लाइवा से बच्चों भी थोड़ा सा असर छोड़ देता है।

4) ऐसा भी बताया जा रहा है कि जिन बच्चों में मोटापा ज्यादा रहता है

या ओबीस की समस्या है, जिस वजह से भी मोटापा काफी मात्रा में रहता है

उसमें यह संकेत ज्यादा तैदात में पाए जा रहे है इसलिए कोशिश करें कि

अपने बच्चे का डाइट सही मात्रा में पौष्टिक आहार दें यदि आप चाहते है

कि बच्चों का वजन उनके उम्र के हिसाब से होना ज़रूरी है

तो आप देख सकते है कि कितना वजन होना चाहिए।

बच्चों का वेट चार्ट

5) बच्चों में विटामिन डी के लेवल को मजबूत बनाना जरूरी है

जिस वजह से भी बड़े बूढे लोगों को कोविड के समय सबसे ज्यादा विटामिन डी की दवाई देने को कहा  गया है.

और यदि जो लोग छत पर जाके बच्चों को विटामिन डी दे सकते है

लेकिन ध्यान रहें सुबह के समय सूर्य की किरणें ज्यादा लाभदायक होती है

लेकिन जो लोग फ्लैट में रहते है और बच्चों को धूप नहीं दे पा रहे है

वो माता पिता बच्चों के खाने में अंडे, घी, मशरूम और सालमन फिश दे सकते है

इससे भी आपके बच्चे में विटामिन डी मिलता रहेगा।

6) प्रतिरोधक क्षमता (immunity system) आपके बच्चों में होना महत्वपूर्ण है

वो इम्युनिटी आपको बढ़ाने के लिए बच्चों में पौष्टिक आहार देने की कोशिश करें और

अगर आप अपने बच्चों के साथ physical activity कर सकते है

तो वो भी ज्यादा करें अगर पूरे दिन में आपने आधे घंटे भी उसके साथ शारिरिक मेहनत करी है

तो वो इम्युनिटी बढ़ाने में सहायक होगी।

7) अगर आपका बच्चा 2 साल के नीचे है तो ब्रेस्ड फीड कराएं बच्चे को जितना माँ के दूध से न्यूट्रिशन मिलेगा

उससे अच्छा कहीं नही मिलेगा क्योंकि जो हमारे शरीर मे एंटीबॉडी रहता है

वो बच्चों के अंदर जाके उसे मजबूत करता है।

8) बच्चों का वेक्सिनेशन की तारीख को याद रख कर सही समय मे उनके वेक्सिनेशन को लगवाना क्योंकि

यह बहुत ज़रूरी है कि बच्चों के जो भी वेक्सिनेशन है

वो लग जाये जिस वजह से भी उनका इम्युनिटी सिस्टम और अच्छा बन जायेगा।

9) बच्चों में यह आदत डलवाएं कि मास्क पहना जरूरी है उनके हाथों को  साबुन से अच्छे से  धोना ,

और लोगों से दूरी बनाएं रखना और ऐसी जगह को नहीं छूना जिंसमे वायरस का खतरा ज्यादा हो।

और कोशिश करें कि घर मे ही बच्चे ज्यादा से ज्यादा एक्टिविटी को कर सकें जिससे बहार ना जा सकें।

10) यह सबसे ज्यादा जरूरी है जो पहले दूसरी लहर में हम ध्यान नही रख पाए जो कि

अब हम अगर हमारे आस पास के इलाके में कोरोना के संकेत है या लोग कोरोना से ग्रसित हुए है

तो अपने बच्चों को घर से बहार बिल्कुल जाने नहीं दें. 

सरकार के लॉकडॉन होने का इंतज़ार ना करें और घर मे बच्चों को रहने की सलाह दें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here