बेरोजगारों से पटवारी परीक्षा फार्म बेचकर सरकार ने कमाए 57 करोड़

0
179

(भोपाल)
। म.प्र सरकार ने बेरोजगार युवाओं को पटवारी परीक्षा फार्म बेचकर 57 करोड़ रूपये की आय कर ली है। मध्यप्रदेश में बेरोजगारी का आलम ये है कि पांच साल बाद निकले पटवारी के 9 हज़ार पदों के लिए अब तक 12 लाख से अधिक लोगों ने आवेदन आवेदन भरे है।
सरकार ने फार्म भरने के लिए अलग-अलग परीक्षा शुल्क तय किये थे। जनरल के लिए 570 रूपये व अन्य वर्ग के लिए 320 रूपये थे।
बड़ी संख्या में आवेदन आने के बाद अब प्रशासन के भी हाथ पैर फूल गए हैं। पटवारी परीक्षा में वो युवा भी हिस्सा ले रहे है जो यूपीएससी और पीएससी की तैयारी कर रहे हैं. परीक्षा फार्म भरने वालों में एमटेक, एमबीए, पीएचडी डिग्रीधारी जैसे परीक्षार्थी भी फार्म भरे है।
पटवारी परीक्षा में योग्यता 12वीं पास थी। लेकिन इस बार ग्रेजुएट होना जरुरी रखा गया है। इसी वजह से ग्रेजुएट युवाओं का बड़ा वर्ग इस परीक्षा में बैठ रहा है। जिससे आवेदनों की और संख्या बढ़ गई है। पटवारी परीक्षा में 356 पीएचडी, 1178 बीटेक, एमबीए शेष विभिन्न विषयों में स्नातक है। 12 लाख बेरोजगार स्नातक छात्र-छात्रायें पटवारी परीक्षा में विभिन्न परीक्षा केन्द्रों में परीक्षा देंगे। सरकार द्वारा बेरोजगारों से नौकरी के नाम पर शुल्क वसूल करने का युवा विरोध कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here