मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मुंबई में लॉन्च किया ‘यूपी इंवेस्टर्स समिट-2018’ का लोगो – उत्तर प्रदेश में निवेश के लिए उद्योगपतियों को दिया निमंत्रण

1
268

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अब प्रदेश को विकास की राह पर ले जाने के लिए कमर कसते दिख रहे हैं और उनकी कोशिश है कि कई बड़े औद्योगिक निवेश उनके राज्य में हो जिससे स्थानीय लोगों को रोजगार भी मिले. इस बात को ध्यान में रखकर राज्य सरकार द्वारा अगले साल 21 और 22 फरवरी को लखनऊ में होने वाले अंतरराष्ट्रीय इंवेस्टर्स समिट- 2018 की तैयारियां जोरों पर हैं. उत्तर प्रदेश में औद्योगिक विकास को बढ़ावा देने और रोजगार के अवसर सृजित करने के उद्देश्य से अंतरराष्ट्रीय इंवेस्टर्स समिट से सरकार को बड़े पैमाने पर औद्योगिक पूंजी निवेश की संभावना दिखाई दे रही है. साथ ही युवाओं के लिए रोजगार योगी सरकार की प्राथमिकताओं में है. सरकार का मकसद पूंजी निवेश के जरिए युवाओं को बड़े पैमाने पर रोजगार के अवसर देना है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने समिट के तैयारियों की कमान खुद संभाल रखी है. शुक्रवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मुंबई में इस समिट का लोगो और टैगलाइन लॉन्च किया. मुंबई के नरीमन प्वाइंट स्थित ट्राइडेंट होटल में यूपी इंवेस्टर्स समिट-2018 के लिए आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने बैंकर्स से मुलाकात की और देश के बड़े उद्योगपतियों को इंवेस्टर्स समिट में आने का न्योता दिया. योगी ने बैंकर्स को यूपी सरकार द्वारा किए जा रहे विकास कार्यों की जानकारी दी और सभी को उत्तर प्रदेश में रीजनल ऑफिस खोलने के लिए आमंत्रित किया. दरअसल योगी सरकार का दावा है कि नई सरकार ने औद्योगिक निवेश एवं रोजगार प्रोत्साहन नीति, सूचना प्रौद्योगिकी एवं स्टार्ट-अप नीति, एग्रो और खाद्य प्रसंस्करण के संबंध में नीतियां लागू की हैं, जिसका प्रदर्शन ‘इंवेस्टर्स समिट-2018’ में देश-विदेश के महत्वपूर्ण औद्योगिक घरानों और निवेशकों के सामने किया जाएगा. मुंबई के ट्राइडेंट होटल में सीएम योगी के नेतृत्व में हुए आयोजन में रिलायंस इंडस्ट्रीज के मुकेश अंबानी, टाटा ट्रस्ट्स के रतन टाटा, टाटा ग्रुप के एन चंद्रशेखरन, महेन्द्रा एंड महेन्द्रा ग्रुप के पवन गोयनका, एस्सेल ग्रुप के सुभाष चंद्रा, हिंदुजा ग्रुप के अशोक हिदुंजा, एचडीएफसी लिमेटड के दीपक पारेख, बजाज इलेक्ट्रिकल्स लिमेटड के शेखर बजाज, अरविंद ग्रुप के अरविंद लालभाई, टॉरेंड ग्रुप के सुधीर मेहता, अजंता फार्मा के मधुसूदन अग्रवाल, गीतांजलि ग्रुप के मेहुल चोकसी मौजूद रहे. मुख्यमंत्री योगीआदित्यनाथ ने कहा कि बदलते यूपी में आप सभी का स्वागत है. “बदलते यूपी में आप सभी को निमंत्रित करता हूं. यूपी को हम लोगों ने मोदी के मार्गदर्शन से बदलाव करने का मन बना लिया है.” उन्होंने आगे कहा, “जब यूपी की बात आती है तो सभी यही महसूस करते होंगे कि सालभर पहले यूपी का डरावना दृश्य सामने आता था, लेकिन गुजरे 9 महीनों में आपने राज्य में बदलाव महसूस किया होगा.” उत्तर प्रदेश में उद्योग लगाने व युवाओं को बड़े पैमाने पर रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने के लिए राज्य सरकार ने विशेष अभियान शुरू किया है. प्रदेश सरकार ने औद्योगिक निवेश एवं रोजगार प्रोत्साहन नीति, सूचना प्रौद्योगिकी एवं स्टार्ट-अप नीति, एग्रो और खाद्य प्रसंस्करण के संबंध में नीतियां लागू की हैं. बैंकिंग और वित्तीय संस्थाओं से जुड़े दिग्गजों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने कहा, “मैं यह बात विश्वास के साथ कह सकता हूं कि जो शुरुआती बदलाव दिख रहा है वो बहुत ही सकारात्मक है. और यही विश्वास उद्योगपतियों से लेकर फिल्मी जगत से जुड़े लोगों में बना रहेगा.” उन्होंने कहा, “हमारी सरकार औद्योगिक निवेश एवं रोजगार नीति पर लगातार जोर दे रही है. हम युवाओं के लिए रोजगार बढ़ाने की योजना पर काम कर रहे हैं, जैसे फूड प्रोसेसिंग, एग्रो और खाद्य प्रसंस्करण, डेयरी. हमारी औद्योगिक नीति बहुत ही लुभावनी है और निवेशकों को आकर्षित करने के लिए विशेष योजना पर काम कर रहे हैं.” उन्होंने कहा, ‘प्रदेश में खराब कानून-व्यवस्था और लाल फीताशाही से चीजें काफी खराब हो गई थीं, लेकिन हम निवेश को ध्यान में रखते हुए अपराध और भ्रष्टाचार कम करने के लिए जीरो टॉरलेंस को सख्ती से लागू करेंगे. ऐसे कड़े कदम उठाएंगे कि अपराधी परेशान हो जाएंगे. हमने यूपी में एंटी टैरेरिस्ट स्क्वाएड बनाया है. माफियाओं का मुंह तोड़ा है.’ योगी सरकार में सूचना सलाहकार मृत्युंजय कुमार सिंह के मुताबिक सरकार का फोकस ईज ऑफ डूइंग बिजनस पर है. हम पूर्वांचल और बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे बनाने जा रहे हैं. 15 नए एअरपोर्ट बन रहे हैं. सरकार एकल खिड़की पर फोकस कर रही है और देश के औद्योगिक घरानों से मिल रही प्रतिक्रियाएं उत्साहवर्धक हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here