Bhopal ijtema 2022: इज्तिमा में 10 लाख से ज्यादा लोग जुड़े, सिर्फ 14 लोगों से हुई थी इज्तिमा की शुरुआत

0
378
Bhopal ijtema 2022: इज्तिमा में 10 लाख से ज्यादा लोग जुड़े, सिर्फ 14 लोगों से हुई थी इज्तिमा की शुरुआत
Bhopal ijtema 2022: इज्तिमा में 10 लाख से ज्यादा लोग जुड़े, सिर्फ 14 लोगों से हुई थी इज्तिमा की शुरुआत

Bhopal ijtema 2022 live: भोपाल में आज (21 November 2022) मुस्लिमों के सबसे बड़े इज्तिमा का आखिरी दिन था। इस दौरान यहाँ 5 हजार जमातें शामिल हुईं, वहीं 10 लाख से ज्यादा लोगों ने इसमें शिरकत की। इज्तिमा खत्म होने के बाद लाखों की भीड़ रेलवे स्टेशन और बस स्टैंड की ओर रवाना हुई | 300 एकड़ एरिया में बने पंडाल में 18 Nov से 21 Nov तक आयोजित किया गया। इसके चलते चार दिन तक Bhopal Nagar Nigam नगर निगम की टीमें अलर्ट मोड पर रहीं। आखिरी दिन 29 मिनट की दुआ के बाद इसका समापन हुआ। सबने मौलाना साद के साथ आमीन बोला और भीड़ धीरे-धीरे निकलना शुरू हुई।

दुआ से पहले सुबह 9.21 बजे तक मौलाना साद ने तकरीर की।

मौलाना साद साहब कहा- आज इंसान ने अपनी जरूरत को दुनिया के आसपास महदूद (सीमित) कर लिया है। जबकि, असल जिंदगी आखिरत के लिए तैयारी करने की है, उसे फिक्र नहीं है। जमातों में निकलकर तब्लीग के जरिए लोगों को असल जिंदगी की मेहनत के लिए ही बताया जा रहा है।

पूरी दुनिया में सिर्फ ३ देशों में होता है इतनी बड़ी संख्या में इज्तिमा का आयोजन

इनमें पहला भारत, दूसरा पाकिस्तान और तीसरा बांग्लादेश है। कोरोना के कारण इस कार्यक्रम का आयोजन पिछले 2 साल से नहीं हो रहा था। यही वजह है कि जब इस साल इसका आयोजन हुआ तो पहले दिन इस कार्यक्रम में 1 हजार जमातें ही शामिल हुईं लेकिन आखिरी दिन तक यह संख्या 5 हजार तक पहुँच गई।

14 लोगों से हुई थी इज्तिमा की शुरुआत

भोपाल में इज्तिमा की शुरुआत 1947 में हुई थी। सबसे पहले इसका आयोजन मस्जिद शकूर खाँ से हुई थी । उस समय केवल 12 से 14 लोग ही थे जो इस कार्यक्रम में शामिल हुए। बाद में इसका आयोजन 1971 में बड़े स्तर पर ताजुल मसाजिद में होने लगा। धीरे-धीरे इसमें आने वालों की संख्या भी बढ़ने लगी।

2005 में इसे बैरसिया रोड स्थित ईंटखेड़ी के पास घासीपुरा में शिफ्ट किया गया। उसके बाद से ये यहीं लग रहा है। इस आयोजन के लिए भोपाल में 2 माह पहले से तैयारियाँ होती हैं। कार्यक्रम में शामिल होने वाली जमातों की बुनियादी जरूरत पूरा करने के लिए हर इंतजाम किए जाते हैं।