किस्सा एक मशहूर गीत का, जो पहले हो गया था रिजेक्ट, लेकिन फ़िल्म में आने के बाद हुआ सुपर हिट

0
181
किस्सा एक मशहूर गीत का
किस्सा एक मशहूर गीत का, जो पहले हो गया था रिजेक्ट, लेकिन फ़िल्म में आने के बाद हुआ सुपर हिट

किस्सा एक मशहूर गीत का जानिए कोन सा था गीत

मदन मोहन एक बेहतरीन संगीतकार, मैदान मोहन का एक किस्सा बताता हूँ ,

मदन मोहन का एक hunting romantic situation पर गीत कम्पोज किया था, फिल्म थी “वो कौन थी”.

बड़ी मेहनत से गीत बनाया था, लेकिन जब फिल्म के डाईरेक्टर राज खोसला को सुनाया, तो राज खोसला को कम्पोजीशन पसंद नहीं आई, मदन मोहन बहुत दुखी हो गए…

उन्हें confident था की उनका ये कम्पोजीशन memorable song साबित होगा.

मदन मोहन ने अपना दुःख मनोज कुमार से शेयर किया,

मनोज कुमार ने जब कम्पोजीशन सुना तो उन्हें लगा की ये तो कमाल की कम्पोजीशन बनी है,

Also Read सुरों के सरताज मोहम्मद रफी साहब को भारत रत्न क्यों नहीं?

मनोज कुमार ने मदन मोहन को वादा किया की आप की कम्पोजीशन जाया नहीं जाएगी
अगली म्यूजिक सिटिंग पर मनोज कुमार अचानक पहुच गए, राज खोसला भी मौजूद थे,

बातों बातों में मनोज कुमार ने मदन मोहन से कहा की ज़रा hunting situation वाली कम्पोजीशन सुनाईये. मदन मोहन शुरू हो गए.
जैसे ही गाना ख़त्म हुआ मनोज कुमार वाह वाह करने लगे…(किस्सा एक मशहूर गीत का)

राज खोसला को अपनी गलती का एहसास हुआ और उन्होंने उस कम्पोजीशन को अप्रूव कर दिया

जानते है वो गीत कौन सा था?….वो गीत था “लग जा गले की फिर ये हंसी रात हो न हो”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here