सीरिया में संघर्ष विराम के प्रस्ताव का किया समर्थन

0
145
                                      पोप ने हिंसा को करार दिया अमानवीय 
सीरिया में लंबे समय से हो रही हिंसा को अमानवीय करार देते हुए पोप फ्रांसिस ने उसकी निंदा की और संयुक्तराष्ट्र सुरक्षा परिषद के उस प्रस्ताव का समर्थन किया जिसमें संघर्ष विराम की मांग की गई है। उन्होंने संघर्ष विरम को इसलिए जरुरी बताया ताकि सीरियाई लोगों को खाना और दवाइयां पहुंचाई जा सके तथा बीमारों एवं घायलों को निकाला जा सके।
सेंट पीटर्स स्क्वायर में फ्रांसिस के नेतृत्व में हजारों लोगों ने हिंसा के तत्काल समापन के लिए रविवार को प्रार्थना की।उन्होंने कहा कि फरवरी का महीना सात साल के संघर्ष के दौरान सबसे हिंसक रहा। सैकड़ों, हजारों बच्चों, महिलाओं, बुजुर्गों और अस्पताल में भर्ती मरीजों समेत हजारों लोग प्रभावित हुए हैं।
लोगों के पास खाने तक को नहीं है। उन्होंने कहा यह अमानवीय है। आप शैतान से शैतान की तरह नहीं लड़ सकते हैं। शनिवार को संयुक्तराष्ट्र सुरक्षा परिषद ने समूचे सीरिया में 30 दिन के संघर्ष विराम की मांग करने वाला प्रस्ताव पारित किया था, ताकि लाखों लोगों को मानवीय सहायता की आपूर्ति करायी जा सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here