हनीट्रैप- एक और भाजपा विधायक के वीडियो की मिली क्लिप

0
320
हनीट्रैप- एक और भाजपा विधायक के वीडियो की मिली क्लिप
एक और भाजपा विधायक के वीडियो की मिली क्लिप

भोपाल – इंदौर नगर निगम के इंजीनियर हरभजन सिंह पर अड़ी डालने के आरोप में गिरफ्तार श्वेता विजय जैन, श्वेता स्वप्निल जैन और आरती दयाल को एसआईटी ने पूछताछ के लिए रिमांड पर लिया था।

श्वेता विजय जैन के पास से पांच पेन ड्राइव मिले थे। जिसमें श्वेता स्वप्निल जैन के अलावा दो और लड़कियों के पेन ड्राइव है। एक लड़की जो कि भोपाल में बुटीक का काम करती है, उसका एक वीडियो भाजपा के एक चर्चित विधायक के साथ है। एक पेन ड्राइव एनजीओ का काम करने वाली एक महिला का है। उक्त महिला के भाजपा के एक वरिष्ठ पदाधिकारी से बहुत अच्छे संबंध है। उक्त पदाधिकारी के दम पर उक्त महिला ने भाजपा के कुछ नेताओं को विधानसभा का टिकट दिलाने का भी प्रयास किया था।

महिला पर भाजपा के एक नेता इतने मेहरबान थे कि भोपाल में दो स्पा सेंटर खुलवा दिए थे।

बाद में पुलिस कार्रवाई के बाद महिला का स्पा बंद हो गया। महिला को पिछले वर्षो में जनसंपर्क विभाग से काफी काम मिला था। एसआईटी ने हनीट्रैप की आरोपी महिलाओं को रिमांड पर लेकर पूछताछ की तो कई सनसनी खेज जानकारियां मिली। श्वेता स्वपनिल जैन ने पूछताछ में कई आला नेताओं और अधिकारियों से जान पहचान होने की बात स्वीकारी और कहा कि उनके यहां लगातार आना जाना था।

अलग-अलग खातों से पहुंचाए गए श्वेता को पैसे

अलग-अलग खातों से लाखों रुपए स्थानांतरण के संबंध में श्वेता जैन ने बताया कि एनजीओ के माध्यम से जो काम किया है, उसकी राशि है। गोविन्दपुरा क्षेत्र में बिजली का काम करने वाले एक उद्योगपति के खाते से भी श्वेता जैन के खाते में कई बार राशि आई है। एसआईटी अब खाते में राशि ट्रांसफर करने वालों की जांचकर पूछताछ करेगी कि आखिर उन्होने किस कार्य के लिए राशि दी थी। साथ ही उन लोगों को पूछताछ के लिए बुला सकती है।

क्या है मामला

इंदौर पुलिस ने 19 सितंबर 2019 को मोनिका यादव और आरती दयाल को गिरफ्तार किया था। दोनों ने इंदौर के इंजीनियर पर तीन करोड़ रुपए की अड़ी डाली थी और पहली किश्त लेने के लिए इंदौर गई थी। दो आरोपियों की इंदौर में गिरफ्तारी के बाद उनकी निशानदेही पर भोपाल से श्वेता स्वप्निल जैन, श्वेता विजय जैन और बरखा सोनी को गिरफ्तार किया गया था। गिर$फ्तारी के बाद से पांचों महिलाएं जेल में बंद हैं।

गिरफ्तारी के बाद मोनिका यादव के पिता ने पुलिस से शिकायत कर कहा था कि मेरी बेटी स्नातक प्रथम वर्ष की छात्रा है। वह पढऩे के लिए गई थी। श्वेता और आरती से उसकी मुलाकात हुई थी। मुलाकात के बाद गिरोह के सदस्यों ने उसे अपने जाल में फंसाकर देहव्यापार में धकेल दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here