पश्चिमी विक्षोभ का भारत पर असर, मकरसंक्रांति रहेगी ठंडी

0
34
पश्चिमी विक्षोभ
पश्चिमी विक्षोभ का भारत पर असर, मकरसंक्रांति रहेगी ठंडी
Breaking news

भारत की भौगोलिक स्थिति इस तरह है की ठंड को बढ़ाने के लिए भूमध्य सागर में होने वाली वर्षा का प्रभाव

भारत में पड़ने से भारत में ठंड और अधिक पड़ने लगती है है वैसे तो भारत में मुख्यतः ठंड का असर साईबेरियन

हवाओं के कारण ही होता है परंतु इस ठंड को उत्तर में हिमालय पर्वत शृंखला इसे आसानी से रेग्युलेट कर केटी है।

जब भारत में ठंड का मौसम होता है उस वक़्त भूमध्य सागर

में बारिश का मौसम होता है।

Today’s headlines in hindi पश्चिमी हवायें भारत की तरफ़ प्रवाहित होती है

तो भूमध्य सागर की आद्र पवने भारत की तरफ़ मुड़ जाती है

जिस से भारत के उत्तरी भाग में बारिश होने लगती है यही असर आपको तात्कालिक मौसम में दिखाई पड़ रहा होगा।

इसी कारण से दिल्ली में बारिश हो रही है और मध्यप्रदेश में मौसम ढका हुआ है।

मकर संक्रान्ति के दिन ठंड काफ़ी रहने का अनुमान भारतीय मौसम विभाग द्वारा लगाया गया है।

हालाँकि ज़्यादातर भारतीय मौसम विभाग अपने अनुमानों में असफल दिखाई पड़ता है

फिर भी हमें किसी ना किसी लैबोरेटॉरी के आँकड़ो में यक़ीन तो करना पड़ेगा।

इसी के कारण तापमान गिरने लगता है और ठंड अधिक पड़ती है।

पश्चिमी विक्षोभ के कारण बहुत बार तमिलनाडु ओड़िसा में भी बारिश होने लगती है

और इसी के कारण वहाँ बाढ़ जैसे हालत भी पैदा होने लगते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here