विकेट के पीछे खड़े होकर धोनी अपने गेंदबाज़ों और फील्डरों का मार्गदर्शन करते रहते हैं

0
56
फील्डरों
विकेट के पीछे खड़े होकर धोनी अपने गेंदबाज़ों और फील्डरों का मार्गदर्शन करते रहते हैं
विकेट के पीछे खड़े होकर धोनी अपने गेंदबाज़ों और फील्डरों का मार्गदर्शन करते रहते हैं और उनकी सूझबूझ से टीम किसी भी समय मैच पलटने में सक्षम है। चेन्नई के पास शेन वाटसन, फाफ डू प्लेसिस, सुरेश रैना, अंबाटी रायुडू, धोनी, सैम बिलिंग, ड्वेन ब्रावो जैसे अच्छे बल्लेबाज़ हैं। मध्यक्रम में खेल रहे रैना और रायुडू ने पिछले मैच में नाबाद 54 अौर 79 रन की बेहतरीन पारियां खेली थीं।
चेन्नई के बल्लेबाजी क्रम को देखें तो उसके पास ओपनिंग से निचले क्रम तक बेहतरीन खिलाड़ी हैं और टीम कुछ खास बल्लेबाज़ों पर रन बनाने के लिये निर्भर नहीं है। रायुडू ने अब तक 40.20 के औसत से सर्वाधिक 201 रन बनाये हैं तो धोनी ने भी अपने क्रम पर अब तक 46.33 के औसत से 139 रनों का योगदान दिया है जिसमें उनकी नाबाद 79 रन की पारी अहम है।
दूसरी ओर बेेंगलुरू को देखें तो इस टीम में रन बनाने के लिये कप्तान विराट पर निर्भरता बहुत अधिक है। विराट ने पिछले पांच मैचों में 57.75 के औसत से 231 रन बनाये हैं जिसमें उनकी नाबाद 92 रन की पारी अहम है। इसके अलावा ए बी डीविलियर्स(212) प्रमुख स्कोरर हैं। मनदीप सिंह और क्विंटन डी काक ने भी अब तक पांच मैचों में 139 अौर 112 रन बनाये लेकिन बाकी कोई खिलाड़ी बोर्ड पर रन नहीं जोड़ पा रहा है जो टीम की बड़ी समस्या है।
गेंदबाजों में तेज़ गेंदबाज़ उमेश यादव, क्रिस वोक्स आठ आठ विकेट लेकर सबसे सफल हैं ते युजवेंद्र चहल ने भी पांच मैचों में पांच विकेट लिये हैं। लेकिन टीम के खेल में निरंतरता की कमी है और चेन्नई जैसी टीम के खिलाफ उसके हर खिलाड़ी को अपनी जिम्मेदारी निभानी होगी।
प्रीतिवार्ता

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here