देश की बिगड़ती हालत का ज़िम्मेदार कौन, पढ़े पूरी ख़बर

0
260
PM Modi-बिगड़ती हालत का ज़िम्मेदार कौन
आखिर कब आएंगे अच्छे दिन

Innervoice – आज हम आपको उस शख्स के बारे में बता रहे हैं

जिसको आम जनता ने देश की कमान सोपि हैं और यह शख्स कोई और नहीं बल्कि हमारे प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी हैं। जिसकी सरकार में आज आम आदमी बुरी तरह से पीस कर रह गया हैं। नरेंद्र मोदी एक गुजरती परिवार में वडनगर में 17 सितम्बर 1950 में पैदा हुए। घर की परिस्तितिया ख़राब होने के कारण वो अपने पिता के साथ चाय बेच कर अपना गुज़ारा करने लगे। इसके बाद 8 साल में वो राष्ट्रीय स्वयंसेवक संग {RSS} के साथ काम करने लगे।
बाद में वो अहमदाबाद चले गए और वह रहने लगे। सन 1971 से वो राष्ट्रीय स्वयंसेवक संग {RSS} के लिए पूरी तरह काम करने लगे और सन 1985 में उन्हें भाजपा पार्टी में जगह मिली और कई पदों पर उन्होंने काम किया इसके बाद मनो मोदी जी की किस्मत पूरी तरहा से बदल गई हो।

2001 में बने थे गुजरात के मुख्यमंत्री

साल 2001 में गुजरात के मुख्यमंत्री बनाए गए, लगातार 3 बार वो गुजरात के मुख्यमंत्री के पद पर रहे इस दौरान इन्होंने काफी राज किया। और 2014 तक मानो देश में मोदी जी के नाम की लहर दौड़ उठी। हर जगह हर तरफ सिर्फ मोदी के नाम का शोर गूंज उठा था। साल 2014 में वो हुआ जिस के कारण आम आदमी की जिंदिगी पूरी तरह से बिखर के रह गई। आम आदमी को अच्छे दिन दिखाने का सपना दिखाया और आम जनता ने यह बात बिना सोचे समझें हमारे देश की कमान मोदी जी के हाथ में दे दी। साल 2014, 26 मई को नरेंद्र मोदी भारत के प्रधान मंत्री बनाया गए।

अभी तक नहीं आए अच्छे दिन

मोदी सरकार को अब 4 साल पुरे हो गए हैं लेकिन जनता को अभी तक अच्छे दिन नहीं दिखे हैं। बल्कि पुरे देश की हालत आज बहुत ख़राब स्थिति में हैं। बता दे की मोदी सरकार ने अब तक कोई एक भी काम ऐसा नहीं करा हैं जिससे लोगों को लगे की अच्छे दिन आ रहे हो। मोदी सरकार के यह हैं वो सारे काम जिसकी वजह से देश की हालत खरब हो गई हैं और जनता भी काफी बुरी तरह पीस रहीं हैं।

मोदी सरकार ने की नोट बंदी, कुछ नहीं हुआ हासिल

8 नवंबर 2016 को मोदी सरकार द्वारा नोटबंदी की गई यह नोटबंदी सिर्फ और सिर्फ विदेश में जमा काले धन को लेकर की गई। लेकिन इससे हुआ तो कुछ नहीं बल्कि देश की आर्थिक स्थिति बहुत ख़राब हो गई। यह नोटबंदी देश से भ्रष्टाचार हटाने के लिए की गई लेकिन नोटबंदी के बाद देश में भ्रष्टाचार और बड़ गया। मोदी सरकार ने पुराने 500 और 1000 के नॉट को बंद कर नए 500 और 2000 के नॉट जारी किए। यह नोट बैंको से आम आदमी तक पहुंचे लकिन बैंको की लाइन में जनता को काफी कुछ सहना पड़ा और काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। लोगों को अपना पैसा लेने के लिए ही रातों से ही बैंको की कतारों में खड़ा होना पड़ा। इसके साथ ही कई बुज़ुर्गो ने बैंको की कतारों में अपनी जान गवा दी तो कई लोग इसके सदमें से ही मर गए। जो लोगों की सालों बरसो की मेहनत की कमाई थीं उसे मोदी सरकार ने काले धन का नाम दे दिया। बता दे की 2000 का बड़ा नोट होने के कारण भ्रष्टाचार में और तेज़ी आ गई लेकिन यह बात मोदी सरकार के समझ से बहार थी।

साल 2017 में आया नया कानून, (GST)

7 जुलाई 2017 को {GST} गुड्स एंड सर्विस टैक्स नाम का कानून पेश किया गया जिसने वैपारियों के लिए एक बड़ी मुसीबत खड़ी कर दी। गुड्स एंड सर्विस टैक्स के बाद सारे वैपरियों की मुश्किलें बड़ गई और सारे धंदे बुरी तरह से ख़राब हो गए। जिसके बाद वैपरियों ने इसका जमकर प्रदर्शन किया लेकिन इससे कोई भी फर्क नहीं पड़ा और आज के दिन तक लोगों को इस परेशनी से जुंजना पड़ रहा हैं। देखा जाए तो नोटबंदी के बाद से ही वैयापार बुरी तरह से पिट गया था ऐसे में {GST} कानून ने वैपरियों की मुसीबतें और भी बड़ा दी।

किसानों ने की आत्महत्या

हमारे देश में अभी तक ना जाने कितने किसान भाइयों ने क़र्ज़ के चलते अपनी जान दी हैं। फसल ख़राब हो जाने पर कई किसानो ने आत्महत्या की तो कई किसानों ने क़र्ज़ माफ़ ना होने के कारण अपनी जान दी। और यह सब मोदी सरकार में हुआ। कई बार फसल के सही दाम ना मिलने पर किसानों ने परेशान होकर आत्महत्या की हैं। इसका ज़िम्मेदार कौन है यह बात हम मोदी सरकार से पूछना चाहते हैं। हमारे लिए नहीं तो काम से काम किसानों के लिए तो अच्छे दिन ला दे मोदी सरकार।

देशभर में बड़ी जुर्म की घटनाए

मोदी सरकार आते ही देशभर में आए दिन जुर्म होने लगे। हमारे देश की महिला और बच्चिया इस सरकार में बिलकुल भी सुरक्षित नहीं हैं। मोदी सरकार में अगर कोई सुरक्षित हैं तो सिर्फ गाये। बता दे की अभी तक कितने गैंगरेप के मामले सामने आ चुके हैं लेकिन अभी तक इन घटनाओं को लेकर कोई सख्त कानून नहीं बनाया गया हैं। जिससे आज भी हमारे देश में आए दिन मासूमों के साथ तक दरिंदिगी की जाती हैं और उन्हें इंसाफ के लिए अपनी जान देनी पड़ती हैं।

ना जाने कितने विदेश दौरे कर चुके हैं मोदी जी

साल 2014 से लेकर अब तक ना जाने कितने विदेश दौरे कर चुके हैं मोदी जी लेकिन इन दौरों से देश को कोई भी फ़ायदा नहीं हुआ हैं। अपने देश में हो रहीं घटनाओ को रोकने की बजाए मोदी जी को विदेश दौरों से फुर्सत नहीं मिल रहीं हैं। बता दे की भारत देश में हो रहीं घटनाओं को लेकर विदेशों में भी मोदी जी के ख़िलाफ़ वहा के लोगों ने जमकर प्रदर्शन किया लेकिन इसे भारतीय मीडिया ने कवरेज नहीं दिया था।

लगातार बढ़ते पेट्रोल, डीज़ल और गैस के दाम

कांग्रेस की सरकार में पेट्रोल 60 से 70 रुपए लीटर बिका जिसका लोगों ने जमकर विरोध किया। गैस सलेंडर उस समय करीब 500 रुपए की हुआ करती थीं जोकि लोगों को बहुत महंगी लगती थीं। आज पेट्रोल के दाम आसमान छू रहे हैं तो कोई इसका विरोध करने वाला नहीं हैं। गैस सलेंडर की कीमत आज करीब 750 हैं जो की लोगों को बहुत सस्ती लग रहीं हैं। इस पर बोलने वाला कोई नहीं हैं ऐसा क्यों ?? लगातार बढ़ते दामों से आम आदमी की जेबो पर मार पड़ रहीं हैं और यह सिर्फ़ हमारे पीएम मोदी की सरकार में हो रहा हैं।

छात्रों को नहीं मिल रहीं नौकरी

हमरे देश के छात्र आज चाय और पकोड़े बेचने को मजबूर हैं। अच्छी कलिफिकेशन के बाद भी आज उन्हें नौकरी के लिए भटकना पड़ रहा हैं। छात्रों को सरकारी नौकरी नहीं दी जा रहीं हैं जिसके चलते आज का युवा छात्र या तो चाय का ठेला लगाने या फिर अपनी जान देने को मजबूर हैं। हालही में देखा गया था की छात्रों ने पैदल यात्रा की थीं चुकी उन्हें नौकरी नहीं दी जा रहीं थीं। आखिर क्यों हमारे नो जवान छात्रों को नौकरी दी जा रहीं हैं। इसका जवाब अभी तक इन बेरोज़गार छात्रों को नहीं मिला हैं।

संदेश

अगर आप यह आर्टिकल पढ़ रहे हैं तो इसे ध्यान से पढ़े और थोड़ा सोचे की इन 4 सालों में हमारा देश कितना पीछे पहुंच गया हैं। कितने जुर्म और ना जाने कितनी घटनाए अभी तक हमारे देश में हो चुकी हैं। अगले साल चुनाव होना हैं ऐसे में आप सब थोड़ा सोचे फिर अपना वोट दे और इस बार सही सरकार बनाए। हम यह नहीं कह रहे की आप कांग्रेस की सरकार बनाए लेकिन जो भी सही हैं आप उसे अपना वोट दे ताकि हम सब एक बार फिर अपना पुराना वाला जीवन जी सके। अच्छे दिन नहीं तो कम से कम बुरे दिन भी ना देखना पड़े।